ALL ब्रेकिंग जयोतिष देश मनोरंजन समाचार राज्य
श्री पंच नाम आनंद भैरव अखाड़ा द्वारा चारों धाम यात्रा के लिए निकाली छड़ी यात्रा
September 15, 2020 • उत्तरांचल वाणी • समाचार

 

श्रीपंच दशनाम जूना आनंद भैरव अखाड़ा द्वारा उत्तराखण्ड के समस्त पावन तीर्थो तथा चारो धाम की यात्रा हेतू निकाली जानी वाली प्राचीन पवित्र छड़ी यात्रा मंगलवार को प्रातः गंगा माता की पूजा अर्चना हेतु हर की पैड़ी स्थित पवित्र ब्रहमकुण्ड पहुॅची। जहा पर श्रीगंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा,महामंत्री तन्मय वशिष्ठ तथा सभा के पदाधिकारियों के सानिध्य में आयोजित समारोह में जिलाधिकारी सी रविशंकर तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सैंन्थिल अबुदई कृष्णराज एस,उपजिलाधिकारी गोपाल सिंह चैहान,एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय,सीओ पूर्णिमा गर्ग,अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत स्वामी हरिगिरि महाराज,जूना अखाड़े के राष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत प्रेमगिरि महाराज,सचिव श्रीमहंत महेशपुरी,श्रीमहंत शैलेन्द्र गिरि,निरजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रविन्द्रपुरी,महानिर्वाणी अखाड़े के श्रीमहंत किशनपुरी,निर्मल अखाड़े के श्रीमहंत ज्ञानदेव शास्त्री,अटल अखाड़े के श्रीमहंत बलराम भारती आदि ने पवित्र छड़ी का विधिवत पूजन अर्चन कर माॅ गंगा से यात्रा की सफलता की कामना की। पवित्र छड़ी को माॅ गंगा में स्नान कराकर विश्व को कोरोना महामारी से मुक्त दिलाने के लिए प्रार्थना की गयी। यहा से पवित्र छड़ी नगर भ्रमण करती हुई श्री दक्षेश्वर महादेव मन्दिर कनखल पहुची,जहां विद्वान पुरोहितों ने छड़ी का अभिषेक किया तथा आशुतोष भगवान दक्षेश्वर महादेव की पूजा अर्चना कर यात्रा की सफलता के लिए शिवबाबा का आर्शीवाद प्राप्त किया। इस अवसर पर कोठारी लालभारती,कारोबारी महंत महादेवानन्द,थानापति नीलकंठ गिरि,रणधीर गिरि,विवेक पुरी,परमानन्द गिरि,राजेन्द्र गिरि,महंत पुष्करराज गिरि आदि उपस्थित थे। श्रीमहंत हरिगिरि ने बताया अब प्राचीन पवित्र छड़ी 17 सितम्बर को विधिवत उत्तराखण्ड यात्रा पर रवाना हो जाएगी। पूरे उत्तराखण्ड तथा समस्त तीर्थो व चारों धाम की यात्रा के पश्चात 12अक्टूबर को वापिस मायादेवी मन्दिर हरिद्वार पहुचेगी। उन्होने कहा इस पवित्र छड़ीयात्रा का उददेश्य उत्तराखण्ड मे उपेक्षित हो रहे पौराणिक तीर्थो का जीणोद्वार तािा विकास करना है,ताकि जहां जनमानस में इनको पुनः स्ािापित किया जा सके। वही स्थानीय नागरिकों को रोजगार भी उपलब्ध हो सके। उत्तराखण्ड की सबसे बड़ी समस्या पलायन को रोकने के लिए इस छड़ी यात्रा के माध्यम से शासन,प्रशासन तथा स्थानीय युवको को जोड़ा जायेगा।