ALL ब्रेकिंग जयोतिष देश मनोरंजन समाचार राज्य
रोहित उर्फ हाथी के हत्यारे गिरफ्तार
June 9, 2020 • उत्तरांचल वाणी

हत्या आरोपियों पर गंगा में धक्का देने का आरोप

 हिस्ट्रीशीटर रोहित उर्फ हाथी की हत्या के आरोप में फरार चल रहे दो आरोपियों को नगर कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने दोनों को जेल भेज दिया है। ज्ञात रहे कि इसी वर्ष मार्च में नगर कोतवाली क्षेत्र के ठोकर नंबर दस के पास हिस्ट्रीशीटर रोहित उर्फ हाथी पुत्र ब्रम्हपाल निवासी राजीव नगर कालोनी ज्वालापुर का आरोपियों के साथ विवाद हुआ था,विवाद के दौरान आरोप था कि आरोपियों ने रोहित उर्फ हाथी को मारपीट कर गंगा में धक्का दे दिया था। काफी तलाश के बाद रोहित की लाश बरामद हुई थी। इस मामले में नगर कोतवाली पुलिस ने हत्या की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया था। पुलिस ने इस मामले में पहले ही छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था,जबकि दो फरार चल रहे थे। सोमवार को कोतवाली पुलिस ने फरार चल रहे लड्डू उर्फ शिवा पुत्र महेंद्र और बॉबी पुत्र सूरज निवासी ठोकर नंबर दस झुग्गी झोपड़ी नगर कोतवाली को गिरफ्तार कर लिया गया है। कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह ने बताया कि आरोपियों को जेल भेज दिया है

महिला चिकित्सक ठगी का शिकार

कोतवाली ज्वालापुर क्षेत्रान्गर्त निजी नर्सिंग होम का संचालन करने वाली शहर की महिला चिकित्सक को साइबर ठगों ने ठगी का शिकार बना लिया। ठगों ने केबाईसी के नाम पर डॉ. डेजी सौंधी के बैंक खाते से चार लाख रुपये की रकम उड़ा दिए। इस मामले में कोतवाली ज्वालापुर में अज्ञात के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस के मुताबिक महिला चिकित्सक डेजी सौंधी का आर्यनगर ज्वालापुर में सौंधी नर्सिंग होम चलाती हैं। ज्वालापुर में आर्यनगर चैक के पास डॉ. डेजी सौंधी का अपना नर्सिंग होम है। उन्होंने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि आइसीआइसीआइ बैंक की रानीपुर मोड़ शाखा में उनका बैंक खाता है। 6 जून को उनके मोबाइल पर अंजान नंबर से एक कॉल आई। कॉल करने वाले शख्स ने खुद को बैंक के केवाईसी डिपार्टमेंट से बताया। उसका कहना था कि वह बैंक मैनेजर बोल रहा है और खाता अपडेट करने के लिए केवाईसी की जरूरत है। इसके लिए बैंक खाता संख्या और मोबाइल नंबर मांगा। इसके बाद मोबाइल के मैसेज में आया ओटीपी पूछा। डॉ. डेजी सौंधी ने उसे ओटीपी बता दिया। चंद मिनट बाद ही उनके बैंक खाते से चार लाख की रकम निकाल ली गई। खाते से रकम निकलने का मैसेज आने पर होश उड़ गए। बैंक से जानकारी लेने के साथ ही पुलिस से शिकायत की गई। ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी प्रवीण सिंह कोश्यारी के अनुसार इस मामले में मुकदमा दर्ज जांच शुरू कर दी गई है। जिस मोबाइल नंबर से महिला चिकित्सक के मोबाइल पर कॉल आई थी, उसके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। जिस खाते में रकम ट्रांसफर हुई है, उसके बारे में भी पता किया जा रहा है। पुलिस ने सोमवार को मुकदमा दर्ज कर लिया है। कोतवाली प्रभारी के अनुसार एक्सपर्ट की मदद से ठगों का पता लगाया जा रहा है। जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार किया जाएगा।