ALL ब्रेकिंग जयोतिष देश मनोरंजन समाचार राज्य
अखंड धाम धर्मशाला प्रबंधक के विरुद्ध पुलिस ने मुकदमा दर्ज क्यों किया ?
June 23, 2020 • उत्तरांचल वाणी • समाचार

यात्रियों को नियम विरुद्ध कमरा देने वाले प्रबंधक के खिलाफ मुकदमा दर्ज

यात्रियों को नियम विरूद्व कमरा देने वाले प्रबंधक के खिलाफ मुकदमा दर्ज हरिद्वार। प्रशासन के तमाम हिदायतों के बाद भी कुछ होटल,धर्मशालाओं के संचालकों द्वारा नियमों की अनदेखी लगातार जारी है। नगर कोतवाली क्षेत्र में हरियाणा के यात्रियों को कमरा देना अखंड धाम धर्मशाला के प्रबंधक को भारी पड़ गया। पुलिस ने प्रबधंक के खिलाफ लॉकडाउन उल्लंघन समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोप है कि प्रबधंक ने यात्रियों को एक दिन के लिए कमरा दिया था। पुलिस के मुताबिक नगर कोतवाली क्षेत्र स्थित अखंड धाम में बीते सोमवार की रात हरियाणा के कुछ यात्री आकर ठहरे थे। आरोप था कि यात्रियों को नियमों का उल्लंघन कर एक दिन के लिए कमरा दिया गया है। सूचना मिलते ही मायापुर चैकी प्रभारी संजीत कंडारी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने छापामारी कर दो कमरों में हरियाणा के 11 यात्रियों को देखा। दो कमरों में 11 यात्रियों को देख चैकी प्रभारी खफा हो गए और उन्होंने अखंड धाम के प्रबधंक को फटकार लगाई। कमरे में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं हो रहा था। जिस पर चैकी प्रभारी संजीत कंडारी ने अखंड धाम के प्रबधंक कुंज बिहारी पुत्र शिव गुलाम, निवासी सीतापुर उत्तर प्रदेश के खिलाफ लॉकडाउन उल्लंघन का मुकदमा दर्ज कर लिया। आरोप है कि प्रबंधक ने यात्रियों को एक दिन के लिए कमरा दिया था। मंगलवार सुबह पुलिस ने यात्रियों को कमरे से वापस भेज दिया है। नगर कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। होटल वालों को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि बाहर से आए यात्रियों को 7 दिन से कम के लिए कमरा न दिया जाए।

पड़ोसी बुजुर्ग से रंगदारी मांगने के मामले को लेकर भेल कर्मी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

कनखल थाना पुलिस ने रंगदारी मांगने के मामले में भेल कर्मी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। बताया जा रहा है कि जुए के लत में फंसे आरोपी भेलकर्मी ने अपने पड़ोसी बुजुर्ग से छह लाख की रंगदारी मांग ली। दरवाजे पर चिट्ठी मिलने के बाद कैंसर पीड़ित बुजुर्ग ने डरते-डरते पुलिस को सूचना दी। सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगालने पर पूरी तस्वीर साफ हो गई और पुलिस ने भेलकर्मी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक विष्णु गार्डन कॉलोनी निवासी रविद्र सिघल यूपीसीएल से रिटायर्ड हैं। उनके बेटे की हार्डवेयर की दुकान है। रविद्र सिघल कैंसर से पीड़ित हैं। सोमवार रात उनके दरवाजे पर एक चिट्ठी मिली। जिसमें लिखा था कि लाइफ टाइम सिक्योरिटी मनी के तौर पर उन्हें छह लाख रुपये देने होंगे। चिट्ठी पढ़कर बुजुर्ग के होश उड़ गए। चिट्ठी में रकम भी बिल्कुल फिल्मी स्टाइल में मंगाई गई। उसमें लिखा गया कि 23 जून यानी मंगलवार की दोपहर छह लाख की रकम ज्वालापुर में ऊंचे पुल मंदिर के पास छोड़कर चले जाना। भेलकर्मी को उम्मीद थी कि रविद्र सिघल किसी को कुछ नहीं बताएंगे और डरकर चुपचाप रकम दे देंगे। कई घंटे तक परिवार इस पशोपेश में रहा कि पुलिस को सूचना दी जाए कि नहीं। करीब चार घंटे बाद उन्होंने कनखल थानाध्यक्ष विकास भारद्वाज को इस बारे में सूचना दी। रंगदारी का मामला होने के चलते पुलिस फौरन हरकत में आ गई और छानबीन शुरू कर दी। सीसीटीवी कैमरे की फुटेज चेक करने पर पड़ोस में रहने वाला भेलकर्मी रविद्र चिट्ठी रखकर लौटता नजर आया। पुलिस ने रविद्र को हिरासत में लेकर पूछताछ की। कुछ मिनट की पूछताछ में ही उसने रंगदारी मांगने की बात कुबूल कर ली। थानाध्यक्ष विकास भारद्वाज ने बताया कि भेलकर्मी रविद्र जुए की लत का शिकार है। उसके सिर पर काफी कर्ज भी हो गया था। इसलिए उसने पड़ोस में रहने वाले कैंसर पीड़ित रविद्र सिघल से रंगदारी मांगी थी। आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है।