ALL ब्रेकिंग जयोतिष देश मनोरंजन समाचार राज्य
आज अंतर्राष्ट्रीय वृक्षारोपण दिवस किस संस्था में मनाया गया?
August 1, 2020 • उत्तरांचल वाणी • समाचार

 **प्रकृति के संरक्षण और संवर्धन के लिए कार्य कर रहा है राधास्वामी सत्संग दयालबाग **

राधास्वामी सतसंग दयालबाग ने पर्यावारण संरक्षण को काम कर रही संस्था 'स्फीहा' (सोसाइटी फार प्रिवेंशन आफ हेल्थी इंवायरमेंट एंड इकोलॉजी एंड हेरीटेज आफ आगरा) के माध्यम से एक अगस्त अंतरराष्ट्रीय वृक्षारोपण दिवस पर पूरे देश में हजारों की संख्या में सतसंग साधकों के माध्यम से तीन हजार पौधारोपण करने के साथ-साथ पर्यावरण की सुरक्षा का संकल्प लेकर जन-जागरूकता अभियान चलाया गया। इनमें 60 किस्मों मुख्य रूप से सागौन, फल देने वाले पौधे, औषधीय गुणयुक्त पौधे, बांस, मसाले और जड़ी बूटी के पौधे शामिल हैं। कार्यक्रम की शुरुआत राधास्वामी सत्संग के मुख्य आचार्य और डीइआइ विवि शिक्षा सलाहकार समिति केअध्यक्ष प्रो. पीएस सतसंगी ने दयालबाग में 'सागौन' का पौधा लगाकर की। यूट्यूब जूम के माध्यम से 115 जगहों पर इस कार्यक्रम का सजीव प्रसारण किया गया, साथ ही इन सभी जगहों पर पौधारोपण और पर्यावरण संरक्षण कार्यक्रम भी किया गया। इस मौके पर छोटे-छोटे बच्चों ने पर्यावरण सुरक्षा और पौधरोपण को लेकर जन-जागरूकता संदेश देने वाली नृत्य नाटिका और गीत भी प्रस्तुत किए। इस दौरान हरिद्वार जिले की रुड़की दयालबाग कालोनी में संतसंगियों ने पौधारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया। रुड़की दयालबाग कालोनी के साथ-साथ देहरादून में भी राधास्वामी सतसंग साधकों ने चीकू, आड़ू, शबरती और आम्रपाली आम, नाशपाती और जामुन आदि के पौधरोपण किया। इस मौके पर बताया गया कि स्फीहा (जो आगरा, भारत का पंजीकृत गैर सरकारी संगठन है) पूरे देश-दुनिया भर में पर्यावरण, पारिस्थितिकी और विरासत के संरक्षण का काम कर रही है, साथ ही पौधरोपण के बाद 3 साल तक उनके रखरखाव की जिम्मेदारी भी उठाती है। उसके द्वारा अब तक लगाए गए 81 हजार 400 पौधे न सिर्फ जीवित हैं, बल्कि उनमें से कई पेड़ भी बन चुके हैं। खास बात यह कि हर कहीं कोरोना संक्रमण काल में सामाजिक दूरी मानदंड का पालन कर पर्यावरण संरक्षण का यह काम किया गया। हरियाणा के पूर्व मुख्य सचिव और डीइआइ विवि के अध्यक्ष प्रेम प्रशांत ने कहाकि यह एक शानदार दिन है क्योंकि इस महामारी के बावजूद सभी नियमों और सुरक्षा का पालन करते हुए पर्यावरण संरक्षण संकल्प का यह महत्वपूर्ण कदम उठाया गया। इस मौके पर से गुरूदयाल प्रसाद नागर, प्रेम प्रसाद सलूजा, सुदेश कुमार, प्रवीण कुमार, प्रेम प्रकाश, जीएसडी शर्मा, विजय प्रकाश, एचएन तिवारी, नील कमल, प्रेम सहाय, विनय कुमार, अश्विनी कुमार, पूजा सतसंगी, अंकुर सतसंगी, शब्दस्वरूप, अशोक गुप्ता, विजय सलूजा, सुरेशचंद, आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे। कहा गया कि वृक्षारोपण का महत्व हमारे लिए नया नहीं है और पेड़ों ने जीवन के विकास में एक प्रमुख भूमिका निभाई है जैसा कि हम आज जानते हैं। कई व्यक्ति, कॉरपोरेट और सामाजिक संगठन दुनिया भर में वृक्षारोपण का संचालन करते हैं ताकि पारिस्थितिकी तंत्र में संतुलन बनाए रखा जा सके जो अंधाधुंध वनीकरण और प्राकृतिक आपदाओं के कारण विषम हो जाता है। वास्तव में, कई लोग जीवन बदलने वाली घटनाओं के जीवित स्मारक के रूप में पेड़ लगाते हैं। वृक्षारोपण का महत्व केवल 29 जुलाई 2019 से बढ़ गया है जिसे अर्थ ओवरशूट डे के रूप में चिह्नित किया गया था; जिसका अर्थ है कि वैश्विक पारिस्थितिक पदचिह्न (जैव संसाधनों की खपत) प्राकृतिक वैश्विक जैव क्षमता या हमारे ग्रह की क्षमता को अपने दम पर प्राकृतिक संसाधनों को पुन: प्राप्त करने की क्षमता अधिक है। स्फीहा (जो आगरा, भारत में एक पंजीकृत गैर सरकारी संगठन है) और दुनिया भर में पर्यावरण, पारिस्थितिकी और विरासत के संरक्षण के क्षेत्र में सबसे आगे रहा है जहां जहां विभिन्न सदस्य हैं। 2006 में अपनी स्थापना के बाद से, स्फीहा ने हजारों पेड़ लगाए हैं और रोपण के बाद 3 साल तक उनके रखरखाव और रखरखाव के लिए खुद को प्रतिबद्ध किया है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि पौधे अपने आप जीवित रह सकें। पिछले 14 वर्षों में लगाए गए कुल पेड़ों के 81.4 प्रतिशतजीवित रहने करने का एक रिकॉर्ड है। इस वर्ष एक अगस्त को, चूंकि लोगों की सामूहिक सभा करने पर कई स्थानों पर प्रतिबंध था अथवा निषिद्ध था, इसलिए स्फीहा के सदस्यों ने दुनिया भर में 115 से अधिक स्थानों पर हजारों पेड़ लगाए जिसमें सामाजिक दूरी के मानदंडों के साथ न्यूनतम संख्या में सदस्य थे। 4 महाद्वीपों में 75 शहरों में फैले, जहां लोगों का एकत्रीकरण संभव नहीं था, वहां सदस्यों ने अपने-अपने घरों / समुदायों में पौधे लगाए, । कई स्थानों पर, वृक्षारोपण को स्थानीय अधिकारियों का समर्थन मिला, जिन्होंने व्यक्तिगत रूप से भी भाग लिया। इस वर्ष स्फीहा अंतर्राष्ट्रीय वृक्षारोपण अभियान में 1000 से अधिक स्वयंसेवकों ने भाग लिया और किया लगभग 60 किस्मों के 3000 से अधिक पेड़ लगाए गए, जिनमें मुख्य रूप से सागौन, फल ​​देने वाले पेड़, औषधीय पौधे, बांस, मसाले और जड़ी बूटी। वृक्षारोपण का अनूठा पहलू यह था कि ये 115 स्थानों पर वृक्षारोपण किया गया, आगरा, भारत में स्फीहा के मुख्यालय द्वारा समन्वित किया गया। अन्य जगहों पर ऑडियो स्ट्रीम के माध्यम से सुना गया है। कार्यक्रम की शुरुआत परमपिता के पवित्र चरणों में प्रार्थना से हुई। इसके बाद परम पूज्य प्रो॰ प्रेम सरन सत्संगी साहब, जो आगरा में डीईआई विश्वविद्यालय में शिक्षा की सलाहकार समिति के एमेरिटस अध्यक्ष हैं, के द्वारा सागौन का पौधा लगाया गया। इसके बाद सदस्यों ने अपने-अपने स्थानों पर पौधारोपण किया। हमारे भारत में पेड़ों के महत्व को दर्शाते हुए एक नुक्कड़ नाटक का आयोजन छोटे बच्चों द्वारा बड़े ही सजीव ढंग से किया गया। स्फीहा के उद्देश्यों और मिशन को पूरा करने के लिए स्फीहा और डीईआई विश्वविद्यालय, आगरा के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने और पर्यावरण के अनुकूल दुनिया बनाने के मिशन को पूरा करने के लिए कार्यक्रम संपन्न हुआ। समझौता ज्ञापन पर स्फीहा अध्यक्ष, श्री एम ए पठान और निदेशक, डीईआई विश्वविद्यालय, प्रो॰ पी॰ के॰ कालरा ने हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर बोलते हुए, श्री प्रेम प्रशांत (हरियाणा सरकार के पूर्व मुख्य सचिव और डीईआई विश्वविद्यालय के अध्यक्ष); जो स्फीहा के मुख्य संरक्षक भी हैं - ने कहा, “स्फीहा के लिए यह एक शानदार दिन है क्योंकि इस महामारी के बावजूद प्रतिभागियों के सभी नियमों, विनियमों और सुरक्षा का पालन करके अपने अंतर्राष्ट्रीय वृक्षारोपण अभियान का सफलतापूर्वक संचालन करने में सफल रहा है।" उन्होंने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के लिए स्फीहा और डीईआई को भी बधाई दी। स्फीहा के अध्यक्ष श्री एमए पठान (पूर्व अध्यक्ष इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन और पूर्व रेजिडेंट डायरेक्टर, टाटा संस) ने कहा कि स्फीहा इस ग्रह पर सभी प्रजातियों के लिए बेहतर और हरियाली पैदा करने के लिए प्रतिबद्ध है और इसे पूरे समर्पण के साथ जारी रखेगा। हम संबंधित स्थानीय अधिकारियों को भी धन्यवाद देंगे जहां इस साल वृक्षारोपण ने अपने समर्थन के लिए कोविड19 महामारी के बीच जगह बनाई है। ” इस पूरे आयोजन का प्रबंधन आगरा के कर्नल (सेवानिवृत्त) आर के सिंह ने किया, जो 2013 से स्फीहा के वृक्षारोपण अभियान का प्रबंधन कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "यह समाज और धरती माता को वापस देने का उनका तरीका है।"